Feb 01 2023 / 1:01 AM

राहुल गांधी का आरएसएस और बीजेपी पर हमला, कहा- ‘जय श्रीराम’ बोलते हैं, ‘जय सियाराम’ क्यों नहीं?

नई दिल्ली। राहुल गांधी ने बीजेपी-आरएसएस पर फिर हमला बोला है। उन्होंने भारत जोड़ो यात्रा के दौरान मध्य प्रदेश के आगर मालवा में संघ और बीजेपी पर मां सीता के अपमान का आरोप लगाया। राहुल गांधी ने लोगों से कहा कि बीजेपी वाले कभी जय सियाराम नहीं बोलते हैं।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि हमारे जो आरएसएस के मित्र हैं उनको में कहना चाहता हूं की सीता जी का अपमान न करें। उन्होंने कहा कि गांधीजी हे राम कहा करते थे। यह उनका नारा था। इसका क्या मतलब है? इसका मतलब यह है कि भगवान राम केवल एक व्यक्ति नहीं थे बल्कि प्रेम, भाईचारे, सम्मान और तपस्या के प्रतीक जीवन का एक तरीका था। हे राम कहने का मतलब था कि भगवान राम के आदर्श हमारे भीतर हैं और हमें उनका पालन करना है।

वहीं राहुल गांधी ने जय सिया राम है का अर्थ समझाते हुए कहा कि सीता और राम एक ही हैं। भगवान राम की जीवन शैली, उन्होंने सीता के लिए जो किया, उसका इस नारे में सम्मान किया जाता है। इसलिए जब हम जय सिया राम कहते हैं, तो हम सीता को याद करते हैं और उनका सम्मान करते हैं।

राहुल गांधी ने कहा कि एक दिन एक पंडित उनके पास आए थे और उन्हें यह समझाया। मैं यात्रा के दौरान बहुत कुछ सीख रहा हूं। पंडित जी ने मुझसे यह सवाल उठाने के लिए कहा कि बीजेपी हमेशा जय श्री राम क्यों कहती है, लेकिन जय सिया राम या हे राम नहीं। यह एक गहन विचार है।

तब राहुल गांधी ने समझाया कि आरएसएस के लोग बीजेपी में गए और उन्होंने भगवान राम के जीवन के तरीके को कभी नहीं अपनाया। भगवान राम ने कभी किसी के साथ अन्याय नहीं किया, उन्होंने समाज को एकजुट करने का काम किया। उन्होंने किसानों, व्यापारियों और मजदूरों की मदद की।

राहुल गांधी ने ये भी कहा कि आरएसएस-बीजेपी वाले जय सिया राम नहीं कह सकते क्योंकि उनकी पार्टी में कोई महिला नहीं है और यह सिया राम का संगठन नहीं है। वहां कोई सीता नहीं है। उन्होंने सीता को बाहर रखा। तो मेरा आरएसएस के दोस्तों से अनुरोध है, कृपया जय श्री राम के साथ-साथ जय सिया राम और हे राम का भी जाप करें। सीताजी का अपमान न करें।

Chhattisgarh