Nov 28 2022 / 1:18 AM

बोलीविया के राष्ट्रपति इवो मोरालेस ने दिया इस्तीफा

ला पाज। बोलीविया के राष्ट्रपति इवो मोरालेस ने चुनाव नतीजों में गड़बड़ी के आरोपों के बाद सेना और जनता के बढ़ते दबाव के बीच रविवार को इस्तीफा दे दिया। चुनावों में अनियमितताओं को लेकर इस दक्षिण अमेरिकी देश में कई हफ्तों से हिंसक प्रदर्शन चल रहे हैं।

इस फैसले से एक दिन पहले मोरालेस ने नये सिरे से चुनाव कराने की पेशकश भी की थी लेकिन संकट तब गहराया जब देश के सेना प्रमुख ने राष्ट्रीय टेलीविजन चैनल पर उनसे इस्तीफा देने की मांग की। 60 वर्षीय समाजवादी नेता मोरालेस ने कहा कि मैं बोलीविया की विधान सभा को अपना इस्तीफा भेज रहा हूं।

उन्होंने कहा कि मैं आपसे भाइयों और बहनों पर हमला बंद करने की गुजारिश करता हूं, चीजों को जलाना और हमला करना बंद कीजिए। मोरालेस का बयान खत्म भी नहीं हुआ था कि उससे पहले ला पाज और अन्य शहरों में कार के हॉर्न बजने लगे और लोग जश्न मनाने के लिए सड़कों पर उतर आए। इस बीच, मोरालेस ने कहा कि उनकी गिरफ्तारी का वारंट आया है।

उन्होंने ट्वीट किया कि मैं दुनिया तथा बोलीविया के लोगों को बताना चाहता हूं कि एक पुलिस अधिकारी ने सार्वजनिक रूप से कहा कि उसके पास मेरे लोगों को गैरकानूनी रूप से गिरफ्तार करने के आदेश का पालन करने के निर्देश हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि हिंसक समूहों ने उनके घर पर हमला किया था। तीन हफ्तों से चल रहे प्रदर्शनों का नेतृत्व कर रहे कंजर्वेटिव नेता लुइस फर्नांडो कैमेचो ने पुष्टि की कि मोरालेस के लिए गिरफ्तारी वारंट जारी हुआ है। कैमेचो ने टि्वटर पर लिखा कि सेना ने उनका राष्ट्रपति विमान ले लिया है और वह चापारे में छिपे हैं। हम उनकी तलाश कर रहे हैं।

चापारे से ही मोरोलस ने टेलीविजन पर अपने इस्तीफे की घोषणा की। मोरालेस बोलीविया की मूल निवासी आबादी के राष्ट्रपति बनने वाले पहले सदस्य थे और वह 13 साल नौ महीने तक सत्ता में रहे जो देश के इतिहास में सबसे बड़ा कार्यकाल है।

Chhattisgarh